Sunday, 14 December 2014

ठंड का मिज़ाज न जाने कैसा है

ठंड का मिज़ाज न जाने कैसा है
बंगले वाले लोगो से ठण्ड कुछ अलग से पेश आती है
बिना घर वालो से कुछ अलग से पेश आती है
ठण्ड का मिजाज़ न जाने कैसा है....

जिनके पास कंबल,कोट और हीटर है
ठण्ड उन्हें क्यों ज्यादा सताती है,
जो तन पर कपड़े को तरसे क्या?
ठण्ड उन्हें नहीं चुभती
सर्द रातो में खुले असमान के नीचे सिमट कर सोते लोगो का
ठण्ड से दोस्ती का रिस्ता लगता है
जब घर वाले साधन संपन्न होने के वावजूद अपने घरो में
ठिठुर रहे होते है, बिना घर वाले
ठण्ड को अपने पास बैठाए सोते है

सड़क या दूर किसी गरीब गाँव के बच्चे
ठण्ड में भी आधे बदन घूमते है
तो सोचती हूँ न जाने ठण्ड का मिजाज़ कैसा है
इन्सान की हेसियत देखकर काम या अधिक लगती है

कोई आग ताप कर बदन गरम करता है
किसी की पेट की आग बदन को हमेशा गरम रखती है
ठंड का मिज़ाज न जाने कैसा है?

रिंकी...


Monday, 1 December 2014

Promise yourself


Promise yourself to be so strong that nothing can disturb your peace of mind
Promise yourself to talk health, happiness and prosperity to every person you meet

Promise yourself to make all your friends feel that there is something in them
Promise yourself to think only of the best, to work only for the best, and to expect only the best

Promise yourself to be just enthusiastic about the success of other as you are about your own.

Promise yourself to forget the mistake of the past and to press on to the greater achievement of the future.

Promise yourself to wear a friendly countenance at all times and give every living creature you meet a smile.

Promise yourself to spend so much time improving yourself that you have no time left to criticize others.

Promise yourself to be too large for worry, too noble for anger, too strong for fear, and too happy to permit the presence of trouble.

By- Christian D. Larsen


Watch your Thoughts

Watch your Thoughts

Watch your thoughts, they becomes your words.
 Watch your words, they become your actions.

Watch your action, they become your habits.
Watch your habits, they becomes your character.

Watch your character, they become your destiny.


By unknown

पिया....

बंद दरवाज़ा देखकर लौटी है दुआ आँख खुली तो जाना ख्याव और सच है क्या धीमे-धीमे दहक रहे है आँखों में गुजरे प्यार वाले पल...