Saturday, 31 December 2016

नया साल मुबरक-2017

नए साल के
नए  पन्ने पर
लिखे संभल-संभल
बने हर पल जिंदगी का
सुखद,संपन्न और सफल
नया साल मुबरक-2017


आप सभी को बहुत-बहुत धन्यवाद,आपके प्यार और प्रोत्साहन के लिए आभार..

रिंकी

पिया....

बंद दरवाज़ा देखकर लौटी है दुआ आँख खुली तो जाना ख्याव और सच है क्या धीमे-धीमे दहक रहे है आँखों में गुजरे प्यार वाले पल...